किसान आंदोलन २०२० - ज्योतिष के आईने में

 किसान आंदोलन का क्या भविष्य है ? 

Kisaan andolan ka kya bhavishya hai?

 

अस्वीकरण :
यह लेख ज्योतिष गणना पर आधारित है जो ज्योतिष की दैनिक एवं सांसारिक घटनाक्रम मे उपयोगिता दर्शाता है। यह वेबसाइट और लेखक किसी प्रकार की राजनैतिक विचारधारा का समर्थन नहीं करते हैं। यह लेख किसी प्रकार से  ब्रह्म भविष्यवाणी का दावा नहीं करता।
 

 किसान आंदोलन अपनी गति पकड़ चुका है। ९ दिसंबर २०२० को किसानो ने केंद्र सरकार द्वारा दिए गए प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया।

आने वाले दिनों मे किसानों ने आंदोलन को और तेज़ करने का एलान किया है। इस आंदोलन से  सम्बंधित कई सारे पक्ष हैं परन्तु सबसे प्रमुख प्रश्न जो सबके मन मे हैं -

किसान आंदोलन का क्या भविष्य है ?

क्या यह आंदोलन ख़त्म होगा ?

क्या कोई शांतिपूर्ण समाधान निकलेगा ?

 

kisaan+andolan+2020+jyotish+healer

 इस सम्बन्ध मे एक ज्योतषीय विवेचना करने का प्रयास किया गया है। इस विवेचना के लिए केपी प्रश्न ज्योतिष का प्रयोग किया गया है

 
मैं इस विवेचना का परिणाम लिख रहा हूँ। जिन पाठकों की ज्योतिष मे रूचि है उनके लिए ज्योतिष विवेचना का विवरण दिया गया है।

विवेचना का परिणाम :


किसान अपना शक्ति प्रदर्शन और तीव्र कर देंगे। केंद्र सरकार द्वारा किये गए बातचीत के प्रयास के सकारात्मक परिणाम निकलने की आशा बहुत कम है। हालाँकि किसी न किसी स्तर पर सरकार द्वारा  संवाद करने का प्रयास होगा।

केंद्र सरकार नए खेती क़ानून पर रुख संवैधानिक रखेगी और अब कोई नए प्रस्ताव की सम्भावना बहुत ही कम है। केंद्र सरकार का रुख अब कानूनी , संवैधानिक समाधान एवं कूटनीतिक हो सकता है।

१५ दिसंबर २०२० से ३० दिसम्बर २०२० के मध्य दोनों पक्ष किसी बिंदु पर मान सकते हैं परन्तु सरकार की तरफ से कोई नए बदलाव के प्रस्ताव की सम्भावना अब कम है।  

*********************************************************************

 अपडेट - ७ जनवरी २०२१

३० दिसंबर २०२० को केंद्रीय सरकार एवं किसान संगठनों के बीच वार्ता मे दो बिंदुओं पर सहमति बन पायी।

जैसा की ज्योतषिये आंकलन मे आया था ; सरकार ने कोई नया प्रस्ताव नहीं दिया। किसान संगठनों ने आंदोलन तेज़ कर दिया।

सरकार ने कूटनीति का भी प्रयोग किया जिसमे उन किसान संगठनो को साथ लाया गया जो इन कानूनों के पक्ष मे हैं। उच्चतम न्यायालय ने भी इस पूरे मामले को संज्ञान लिया परन्तु सरकार ने यह साफ़ सन्देश दिया कि यह कानून वापस नहीं लिए जायेंगे।

 -----------------------------------------------

 यह भी पढ़े : भारत - चीन : क्या युद्ध होगा ?

-----------------------------------------------------



ज्योतिषीय विवेचना (केपी प्रश्न कुंडली पर आधारित)

kisaan+andolan+2020+jyotish+healer+astrological+analysis

 

लग्न केंद्र सरकार की स्थिति दर्शाता है।

१ भाव का सब-लार्ड ; केंद्र सरकार की स्थिति

गु

12'-11-2-6-7

सू

10-4-8-12'

12-1-2-10-3-9

केंद्र सरकार दबाव मे दिख रही है। परन्तु केंद्र सरकार की स्थिति मजबूत है।

७ भाव का सब-लार्ड ; किसानो की स्थिति (गणना ७ भाव को केंद्र मान कर की गए है )

गु

6'-5-8-12-1

सू

4-10-2-6'

6-7-8-4-9-3

वहीँ किसान मजबूत स्थिति मे दिख रहे हैं, दबाव बनाने की स्थिति मे हैं परन्तु ८ - ५ - १२ स्थिति कमजोर करते हैं।

केंद्र सरकार इस विवाद को शांत करना चाहती है और आंदोलन ख़त्म करना चाहती है। क्या यह हो पायेगा ?

११ भाव के सब-लार्ड की विवेचना करेंगे - केंद्र सरकार की इच्छा

शु

9'-4'-6-10-(11)

गु

12'-11-2-6-7-1

शु

9'-4'-6-10-11

११ भाव सब-लार्ड केंद्र सरकार के प्रयास मे सफलता दिखता है।

शु १० भाव का भी सब-लार्ड है। १० भाव कानून , एवं संवैधानि स्थिति दिखा रहे हैं जो केंद्र सरकार के रुख को दर्शाते हैं। अतः सरकार संवैधानिक दायरे मे रहकर अपनी स्थिति मजबूत कर रही है।

शु और गु ग्रहों की वजह से स्थिति मे हिंसा होने की सम्भावना बहुत कम है अपितु जो भी इस दिशा मे कदम उठाये जायेंगे वह शांतिपूर्ण होंगे परन्तु केंद्र सरकार अपनी स्थिति को मजबूत करती दिखती है।

३ भाव और ९ भाव की विवेचना - केंद्र सरकार और किसानो मे संवाद की सम्भावना

12-1-2-10-9-(3)

सू

10-4-8-12'

बु

10-5-6-8-7-2

केंद्र सरकार अपने रुख पर कायम रहते हुए बातचीत के रास्ते खुले रखेगी। और यह भी सम्भावना है कि कोई और बात न हो। बस बातचीत के निमंत्रण का दौर चलता रहे।

१० भाव प्रबल है। श , सू, और बु का मेल लोकतान्त्रिक, कानूनी एवं कूटनीतिक कदम की सम्भावना को दिखते हैं परन्तु मन मनौती वाली बातचीत की सम्भावना बहुत कम है।

यह सम्भावना प्रबल है कि केंद्र सरकार अब किसी भी प्रकार के अतरिक्त प्रस्ताव को माने और कानून मे कोई और बदलाव करने की बात करे। जो प्रस्ताव दिए गए हैं उन पर ही कोई  बात होगी, ऐसी सम्भावना प्रबल है।

महादशा - चंद्र

8-7

8-7

गु

12'-11-2-6-7

चंद्र द्विस्वाभाव  राशि कन्या पर है अतः भ्रम की स्थिति बनता हैं ।  और ८-७ का सम्बन्ध कठनाइयां दिखाते हैं परन्तु ११-२-६ सफलता इंगित करते है हालाँकि १२ भाव कुछ नुकसान दिखाता है।

अन्तर्दशा - गु

गु

12'-11-2-6-7

सू

10-4-8-12'

12-1-2-10-3-9

गु अन्तर्दशा संवाद की सम्भावना को दिखाती है परन्तु सकारात्मक हल की सम्भावना क्षीण है। १०-६ प्रबल है तो केंद्र सरकार की स्थिति मजबूत है।

प्रत्यंतर - श

12-1-2-10-9-(3)

सू

10-4-8-12'

बु

10-5-6-8-7-2

क्या समाधान निकलेगा ?

१-११-७-३-९-५ भाव के कार्येश इस समय का ज्ञान कराएँगे।

रूलिंग प्लैनेट्स

लग्न = 83 Deg 3  Min

लग्न  : बु ,गु ,श

च   : बु ,  च, गु  

दिन : बु

अतरिक्त ; के

इस गणना के अनुसार १५ दिसंबर २०२० से ३० दिसंबर २०२० के बीच समाधान निकलेगा जब सु केतु के नक्षत्र मे प्रवेश करेंगे।

च , गु , और श रूलिंग प्लैनेट्स हैं अतः परेशानी के बाद कुछ हल निकलने की सम्भावना है।

अतः ऊपर लिखी विवेचना के अनुसार :

हल १५ दिसंबर २०२० से ३० दिसंबर २०२० के बीच आने की सम्भावना है। केंद्र सरकार  लोकतान्त्रिक, संवैधानिक, कानूनी एवं कूटनीतिक कदम उठाकर समाधान लाने का प्रयास करेगी।  

शुभेक्षा,
अनुरोध


इस लेख को रेट कीजिये और यदि आपको यह उपयोगी लगा तो अपने मित्रों  के साथ शेयर कीजिये।
भविष्य के लेखों के लिए हमको ईमेल पर फॉलो कीजिये या सब्सक्राइब कीजिये। 
 

टिप्पणियां

  1. ज्योतिष गणना तो मुझे नही आती पर आपके ज्योतिषीय ज्ञान को व्यकितगत रूप से कई बार देखा है और समझा है तो अच्छा लग रहा है सोच कर कि 30 दिम्बर तक किसान समस्या का हल।निकल आएगा और किसान अपने घर सकुशल वापिस जाएंगे।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

आपका दिन शुभ हो।